अंक 9

अंक 9 मंगल ग्रह का परिचायक है। 9, 18 और 27 तारिखो को जन्म लेने वाले जातक पर इस अंक का असर होता है। यदि उन्का जन्म 21 मार्च से 26 अप्रैल मेष राशि और 21 अक्तुबर से 20-27 नवम्बर वृश्चिक राशि की अवधि मे हो तो इसका असर और भी उन्नत रहता है। यह जीवन के प्रत्येक क्षेत्र मे जूझारू होते है। आरंभ मे उनका वक्त अक्सर मुश्किलों भरा होता है लेकिन अपने साहस और दृढ इच्छा-शक्ति से वह कामयाब होते है। उनके स्वभाव मे जल्दबाजी, आवेश, स्वतंत्रता और अपनी इच्छा का मालिक होने की प्रकृति होती है। यदि उनके जीवन मे अंक 9 सामान्य से अधिक हावी हो जाये तो वह बडे-बडे शत्रु पैदा कर लेते हैं और जहां भी रहें झगडा या विरोध पाल लेते है।

वह युद्ध क्षेत्र मे या जीवन संघर्ष मे अक्सर घायल हो जाते है। उनमें वज्र का साहस होता है। और वह आदर्श सैनिक बनते है। उनको सबसे अधिक खतरा कथनी और करनी मे असावधानी तथा आवेश मे रहता है। उन्हे आग तथा विस्फ़ोटकों से दुर्घटनाग्रस्त होने का भी खतरा रहता है। सामान्य भी इस अंक के जातक चोट का शिकार होते रहते है। इस अंक के लोगो को ससुराल पक्ष से झगडा रहता है। वह आलोचना से बहुत जल्द चिढ्ते है।

आत्म भ्रम न होने पर वह हमेशा खुद को विशेष समझते है और इसी कारण अपनी योजनाओ मे किसी की दखलनदाजी पसंद नही करते। वह चाहते है सभी उन्हे ही मुखिया समझें। संगठन करने मे, जोड-तोड करने मे तो यह माहिर होते है लेकिन संगठन मे एक जैसा वातावरण बनाये रखने की इनमे योग्यता नही होती। इसी कारण शीघ्र ही अपने ही संगठन मे ये अलग-थलग पड जाते है। और हिम्मत हार लेते हैं। प्रेम और सहानुभूति प्राप्त करने के लिये इस अंक के लोग कुछ भी कर सकते है इसी कारण इन्हे कोई भी विपरीत सैक्स का जातक आसानी से मूर्ख बना देता है। 3,6,9 तारिख मे पैदा होने वाले जातको से इनकी अधिक पटती है।

अंक-9 लंबी उम्र तक जवान रहने के लिए अदरक, लहसुन, प्याज, लाल एवं हरी मिर्च, कालीमिर्च, तोरई, मीठे फ ल एवं मजीठ का प्रयोग करना लाभ प्रद होता है। गरिष्ठ भोजन, मदिरा का सेवन एवं नशीली वस्तुओं का सेवन करने से इन्हें परहेज करना चाहिए। इनका भाग्यरत्न लाल तथा रक्तमणी है और सौभाग्यशाली रंग गहरा या गुलाबी लाल है। इन जातको को मंगलवार को नया कार्य आरम्भ करना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>