अंक 5

अंक पांच “बुध” का

अंक पांच का स्वामी ग्रह बुध को माना गया है। आपका अंक पांच है तो, आपके भीतर ऊर्जा का अथाह सागर होता है। आप कभी थकते नही है। आप बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्यक्ति होते हैं। हर क्षेत्र की जानकारी आपके पास उपलब्ध रहती है। एक से अधिक काम करने का गुण भी आपके भीतर होता है।

आप संसाधनो का उपयोग करना बहुत अच्छे तरीके से जानते हैं। आप अपने उपायो से संसाधनो का उपयोग करना बखूबी जानते है। आप कोई भी फैसला लेने में देरी नही लगाते हैं। अति शीघ्रता से निर्णय लेते हैं। आपके अंदर बहुत जल्दबाजी होती है। आप बिना समय गंवाए फटाक से फैसला ले लेते हैं।

आपको मनोरंजन की चीजे बहुत प्रिय होती है आप स्वयं भी विनोदी व्यक्ति होते हैं। आपको मनोविनोद में बहुत ज्यादा रुचि होती है। आप कार्य कुशल व्यक्ति होते हैं। आपके भीतर चतुराई तथा बुद्धिमानी भी कूट्-कूटकर भरी होती है।

आइए हम आपकी कुछ विशेषताओ पर रोशनी डालने का प्रयास करते हैं। आप किसी काम का आरंभ करने वाले नही होते है लेकिन आप अपने बुद्धि बल से जीवन में सफल रहते हैं। क्योकि किसी भी परिस्थिति में आप निर्णय लेने में देर नहीं लगाते हैं और हर कार्य करने की आपकी क्षमता के कारण आप सभी क्षेत्रों में सफलता पाते हैं।

बुध का प्रभाव होने से आपको वह काम करना रुचिकर लगता है जो पहले किसी ने ना किया हो। आपको सदा नए कामो में रुचि रहती है उसमें भी विशेषकर वह काम जिनका संबंध आम लोगो से होता हो। तर्कशक्ति बहुत अच्छी होती है और आप बहुत बढ़िया तरीके से जानते हैं कि लोगो से कैसे निपटकर अपना काम बनाया जाए।

आप किसी का भी हस्तक्षेप अपने काम में सहन नहीं करते हैं क्योकि आपको स्वतंत्र रुप से कार्य करना पसंद हैं। आप क्या सोचते है और क्या करते है वह आप अपने तक ही सीमित रखते हैं उसमें किसी तरह का कोई दखल नहीं होना चाहिए। अंक पांच के प्रभाव से आपको मौज – मस्ती करना, मदिरा सेवन तथा दोस्तो में अत्यधिक दिलचस्पी रहती है। जिन्दगी को पूरी तरह से और जिन्दादिली से जीना चाहते है।

आपकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि अपने बुद्धि बल पर आप स्वयं को परिस्थितियो के अनुसार ढा़लकर जीवन में कामयाबी हासिल करते हैं। आप संसाधनो का कुशलता से उपयोग करते हैं और अपनी बहुमुखी प्रतिभा के आधार पर जिन्दगी के हर मोड़ को समझते हैं लेकिन कठिन परिस्थितियो में भी संतुलन बनाकर रखते हैं।

अपनी विशेषताओ के बारे में तो आप जान ही चुके हैं अब हम अंक पांच के अन्तर्गत आने वाले व्यवसाय की बात करते हैं। आप उन सभी कार्यो में सफल हो सकते है जिनका सीधा संबंध जनता से होता हैं। आप पब्लिक रिलेशन आफिसर हो सकते हैं, सेल्स एग्ज्क्यूटिव आदि पद पर काम कर सकते हैं। वो सभी काम जो लोगो की उन्नति तथा वृद्धि से संबंध रखते हैं उन्हें करके आप एक सफल व्यवसायी बन सकते हैं।

यातायात व पर्यटन का संबंध लोगो से ही होता है इसलिए आप ट्रांसपोर्ट अथवा पर्यटन से संबंधित व्यवसायो में भी सफल हो सकते हैं। आप खेलो के आयोजन से संबंधित विभाग में भी काम कर सकते हैं और वो सभी काम जिनका संबंध मनोरंजन के क्षेत्र से होता है, उनमें आप सफलता पा सकते हैं।

आप सरकार तथा नियम, कानून से संबंधित काम कर सकते हैं अर्थात वकालत कर सकते हैं। आप वैधानिक मुद्दो से संबंधित सबसे ऊंचे ओहदे वाले अफिसर के नीचे काम करने वाले क्लर्क भी हो सकते हैं।

बुध का संबंध होने से आप कला की दुनिया से संबंधित व्यवसाय में भी सफलता पा सकते हैं। विशेषकर, अभिनय की दुनिया में आप सफल हो सकते हैं चाहे वह मंच के लिए हो या चाहे वह स्क्रीन करनी हो।

आप न्यूज रिपोर्टर भी हो सकते हैं। शीघ्रता से धन कमाने के चक्कर में आप जुए आदि कामो में व्यस्त हो सकते हैं। वह सभी काम जिन्हें जुए अथवा सट्टे का नाम दिया जाएगा आप कर सकते हैं। लेकिन यहाँ आपको थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता होती है।

आपको रहस्यमयी विद्याओ और आध्यात्मिकता में भी रुचि हो सकती है। आप अपनी ही दार्शनिकता के माध्यम से अपने विचारो का प्रसार मनोवैज्ञानिक तरीके से करते हैं जिन्हें सुनकर व्यक्ति प्रभावित हुए बिना नही पाता है।

इस स्लाईड में हम आपके निजी जीवन की संभावित बातो के विषय में चर्चा करेगें. स्वभाव से स्वतंत्र तथा स्वच्छंद होने से जीवन में अच्छी तथा बुरी दोनो ही बातो का सामना आपको करना पड़ता है। आप सदा अपनी आजादी को प्यार करते हैं और घुमक्कड़ प्रवृति के होते हैं जिससे हर प्रकार का अनुभव अपने जीवन से आपको मिलता है।

आप हर बात को अपंररागत तरीके से संपन्न करते हैं क्योकि आपको रुढ़िवादी होना या एक ही ढ़र्रे पर चलते रहना नापसंद होता है। आप जीवन के उन पहलुओ पर भी रोशनी डालते हैं जिनका होना मुश्किल होता है लेकिन आप उन्हे संपन्नं करते है और समस्याओ से जूझते भी हैं।

आप बहुमुखी प्रतिभा तथा बहुमुर्खी व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं और इस कारण आप हर वातावरण को खुशी और उल्लास से भर देते हैं. अपनी बातो की रंगीनियो से वातावरण को खुशगवार बना देते है।

आपको प्रेम संबंध बनाने में अत्यधिक रुचि होती है लेकिन घर से बाहर ही आपका प्यार ज्यादा छलकता है। आप यदि विवाहित हैं तब आप साथी के प्रति नीरस से रहते हैं क्योकि आपको यह केवल दिनचर्या में शामिल एक काम लगता है। प्रेम संबंधो और वैवाहिक जीवन में आप को नीरस संबंध नहीं चाहिए होते और ना ही किसी तरह का कोई बंधन ही आप पसंद करते हैं।

आप प्रेम संबंधो की वजह से या घरेलू जिन्दगी की वजह से अपनी स्वतंत्रता से समझौता कभी भी नहीं करते हैं। अपनी स्वतंत्रता पर ज्यादा ध्यान देने के कारण आपको विवाह करने से पहले एक बार गंभीरता से सोचना चाहिए क्योकि विवाह के बाद जीवनसाथी के प्रति आपकी बहुत सी जिम्मेवारियाँ होती हैं और आप उनसे भागने का प्रयास कर सकते हैं।

आपका साथी अगर एडजस्ट करने वाला है और आप पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं लगाता है तब आप उससे विवाह कर सकते हैं। इसलिए आपको ऎसे साथी की तलाश करनी चाहिए जो आप पर कोई रोक – टोक ना लगाए।

सभी बातो की चर्चा के बाद आइए अब एक नजर आपकी कमियो पर भी डाल लेते हैं। आपकी सबसे बड़ी कमी यह है कि आपके अंदर एकाग्रता का अभाव रहता है और हर काम में जल्दबाजी होती है। आप शांत चित्त से कभी कोई काम नही करते हैं। कोई भी काम करना हो आप सभी को करने के लिए ट्रिक्स का उपयोग ज्यादा करते हैं। यदि आप सतर्कता से काम नहीं करते हैं तो आप किसी एक में भी सफल नही हो पाएंगे।

आपके अंदर की अधीरता, शीघ्रता, व्याकुलता और असंतुष्टि आपको किसी भी काम में परिपूर्णता हासिल नहीं करने देती है। प्रेम संबंधो में बदलाव, उनमें वैरायटी और कामुकता तलाशने के चक्कर में आप अपना अमूल्य समय बर्बाद करते हैं। यह आपके लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

एक ओर संबंधो में बदलाव करते हैं तो दूसरी ओर प्रेम संबंधो और वैवाहिक मामलो में स्वयं को बेवफा पा सकते हैं यदि आपने अपने मनमौजीपन वाले स्वभाव को नियंत्रित नहीं किया। निन्दनीय और आलोचनत्मक कामो के कारण आपकी लोकप्रियता कम हो सकती है और आपके ऊपर से लोगो का विश्वास कम हो सकता है।

अंक-5 बादाम, अखरोट और नारियल की गिरि, चुकंदर और जौ की रोटियों का सेवन करना चाहिए। अंक 5 के लोगों के लिए बादाम और अखरोट ही विशेष रूप से लाभकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>